ADVERTISEMENT

फिट वेबकूफ: क्या गोमूत्र और गोबर से हो सकता है COVID-19 का इलाज?

BJP MLA का मानना है कि गोमूत्र और गोबर कारगर हो सकता है.

Updated
बीजेपी विधायक सुमन हरिप्रिया ने कहा कि गोमूत्र और गोबर से कोरोनावायरस डिजीज का इलाज किया जा सकता है.
i

अखिल भारत हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने कोरोनावायरस से निपटने के लिए गोमूत्र पीने और मांस न खाने की सलाह दी है. सिर्फ सलाह ही नहीं बल्कि अखिल भारत हिन्दू महासभा की ओर से गोमूत्र पार्टी तक दी गई.

इससे पहले असम में एक बीजेपी विधायक ने भी गोमूत्र और गोबर से इलाज की बात कही थी.

दावा

असम की हाजो विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक सुमन हरिप्रिया ने राज्य विधानसभा में कहा था, "मेरा मानना है कि कोरोनावायरस को ठीक करने के लिए गोमूत्र और गोबर का इस्तेमाल किया जा सकता है."

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा कि चीन की हवा को साफ करने के लिए वहां गाय के गोबर से हवन किया जा सकता है.

ऋषि-मुनि गाय के गोबर का इस्तेमाल कर हवन किया करते थे और 5 किमी के क्षेत्र तक की हवा साफ हो जाती थी. हमारी सरकार को भी ये कोशिश करनी चाहिए.
सुमन हरिप्रिया, बीजेपी विधायक, इंडिया टुडे की रिपोर्ट

गाय, गोबर और गोमूत्र को लेकर ये कोई नया बयान नहीं है. अक्सर इस तरह के बयान आते रहते हैं, कभी गोबर और गोमूत्र को कैंसर के इलाज में कारगर बताया जाता है, तो कभी टीबी जैसे संक्रमण से निपटने के लिए गाय के पास रहने की सलाह दी जाती है.

फिट वेबकूफ: क्या गोमूत्र और गोबर से हो सकता है COVID-19 का इलाज?
(फोटो: ट्विटर/ @mhdlrangrej)

कोरोनावायरस से निपटने में क्या गोमूत्र और गोबर हो सकते हैं कारगर?

कोरोनावायरस से निपटने के लिए गोबर और गोमूत्र का इस्तेमाल वाले बयानों पर आर्टेमिस हॉस्पिटल में मेडिकल सर्विसेज के चीफ और चेयरपर्सन डॉ सुमित रे ने कहा कि इस तरह की टिप्पणियों पर कुछ नहीं कहा जा सकता है.

विज्ञान की बात करें, तो गाय का गोबर हो या गोमूत्र, ये एक जानवर (स्तनधारी) के शरीर से बाहर निकाला जाता है. इसका कोई वैज्ञानिक अध्ययन या सबूत नहीं हैं कि गोमूत्र या गोबर में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं. इसलिए हम नहीं कह सकते हैं गोबर या गोमूत्र से कोरोनावायरस सहित किसी भी इंफेक्शन से निपटने में मदद मिल सकती है. इस तरह की टिप्पणियां अवैज्ञानिक और तर्कहीन हैं.
डॉ सुमित रे, मेडिकल सर्विसेज चीफ और चेयरपर्सन, आर्टेमिस हॉस्पिटल

वहीं आयुर्वेद ग्रोथ, निरोगस्ट्रीट की वाइस प्रेसिडेंट डॉ पूजा कोहली ने बताया कि आयुर्वेदिक ग्रंथों में गोमूत्र समेत आठ जानवरों के मूत्र का जिक्र जरूर है. लेकिन कोरोनावायरस के प्रकोप के मामले में ये उपयोगी होगा ये कहना मुश्किल है क्योंकि कोविड-19 नई बीमारी है और इस बीमारी के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं है.

हमारी यही सलाह है कि इससे बचने के उपाय किए जाएं और इम्यूनिटी बढ़ाई जाए.
डॉ पूजा कोहली, वाइस प्रेसिडेंट, आयुर्वेद ग्रोथ, निरोगस्ट्रीट
ADVERTISEMENT

अब तक COVID-19 का कोई एंटीवायरल इलाज नहीं है

चीन के वुहान शहर में जब पहली बार कोविड-19 के मामले सामने आए, तभी से ये बात कही जा रही है कि ये बिल्कुल नए तरह का कोरोनावायरस है, इंसान इससे पहले इस वायरस से संक्रमित नहीं हुए.

इसलिए फिलहाल इसके इलाज के लिए कोई खास एंटीवायरल दवा या इसकी कोई वैक्सीन मौजूद नहीं है. इसलिए नोवल कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों में सामने आ रहे लक्षणों का इलाज किया जा रहा है. दुनियाभर के वैज्ञानिक इसकी दवा और वैक्सीन के विकास में लगे हुए हैं.

COVID-19 से बचने के लिए क्या करें?

कोरोनावायरस डिजीज 2019 से बचने के लिए हाथ और रेस्पिरेटरी हाइजीन बनाए रखने, खांसी, छींक और सांस से जुड़ी दूसरी बीमारियों के लक्षण वाले मरीजों के निकट संपर्क से बचने और जिन जगहों पर इसके मामले सामने आ रहे हैं, वहां की यात्रा न करने की सलाह दी जा रही है.

वहीं बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई होने पर आपको चिकित्सीय सहायता लेनी चाहिए ताकि किसी गंभीर संक्रमण के खतरे को कम किया जा सके.

(क्या कोई ऑनलाइन पोस्ट आपको गलत लग रही है और उसकी सच्चाई जानना चाहते हैं? उसकी डिटेल 9910181818 वॉट्सएप पर भेजें या webqoof@thequint.com पर मेल करें. हम उसकी सच्चाई आप तक पहुंचाएंगे.)

(Subscribe to FIT on Telegram)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
Stay Up On Your Health

Subscribe To Our Daily Newsletter Now.

Join over 120,000 subscribers!
ADVERTISEMENT