ADVERTISEMENT

Nipah Virus Disease: केरल में 1 बच्चे की मौत, दो स्वास्थ्य कर्मियों में भी लक्षण

केरल में Nipah Virus से बीमार 12 साल के बच्चे की मौत

Updated
<div class="paragraphs"><p>Nipah virus disease-&nbsp;केरल: निपाह वायरस से 12 साल के बच्चे की मौत, दो स्वास्थ्य कर्मियों में भी लक्षण</p></div>
i

केरल में 5 सितंबर 2021 को निपाह वायरस से बीमार (Nipah Virus Disease) एक 12 साल के बच्चे की मौत हो गई. लड़का कोझीकोड का था और हाल ही में COVID-19 से ठीक हुआ था और बुखार कम नहीं होने पर उसे अस्पताल ले जाया गया था.

उसे कथित तौर पर कोझीकोड मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था और बाद में 1 सितंबर को निजी अस्पताल ट्रांसफर कर दिया गया था.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने डॉक्टरों और अन्य विशेषज्ञों की एक टीम तैयार की है, जो बीमारी और आसपास के क्षेत्र पर विस्तृत अध्ययन करेगी.

मलप्पुरम, कोझीकोड और कन्नूर जिलों सहित उत्तरी केरल हाई अलर्ट पर है.

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा कि इससे घबराने की नहीं बल्कि अलर्ट रहने की जरूरत है, सरकार ने स्वास्थ्य व्यवस्था दुरुस्त कर दी है. लड़के के शरीर से लिए गए तरल पदार्थ के तीन सैंपल पुणे के नेशनल वायरोलॉजी लैब से पॉजिटिव पाए गए.

ADVERTISEMENT

दो स्वास्थ्यकर्मियों में भी निपाह के लक्षण

हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक निपाह से जान गंवाने वाले बच्चे के संपर्क में आए दो स्वास्थ्य कर्मियों में भी इसके लक्षण हैं.

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि एक हेल्थ वर्कर कोझिकोड गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल से और दूसरा हेल्थ वर्कर उस प्राइवेट हॉस्पिटल से है, जहां बच्चे का इलाज किया गया था.

सूत्रों के मुताबिक, स्वास्थ्य विभाग ने मृतक लड़के के पांच करीबी रिश्तेदारों और उसके साथ बातचीत करने वाले 12 अन्य लोगों को निगरानी में रखा है.

इंसानों में निपाह वायरस इंफेक्शन से बुखार, सिर दर्द, चक्कर आना, मेंटल कंफ्यूजन हो सकता है और मरीज कोमा में भी जा सकता है.

स्वास्थ्य मंत्री ने शनिवार रात डॉक्टरों और स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ एक वर्चुअल बैठक बुलाई और कोझीकोड मेडिकल कॉलेज अस्पताल में एक विशेष निपाह वार्ड की व्यवस्था की गई है.

ADVERTISEMENT

इससे पहले भी 2018 में केरल के कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों में निपाह का प्रकोप हुआ था. 2 मई, 2018 को, निपाह वायरस पहली बार कोझीकोड जिले के पेरम्बरा अस्पताल में एक व्यक्ति में पाया गया था, जिसे बाद में कोझीकोड मेडिकल कॉलेज ट्रांसफर कर दिया गया था, जहां उनका निधन हो गया था.

इस प्रकोप के कारण 17 लोगों की मौत हो गई थी.

केरल के कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों में निपाह वायरस का पता लगाने और उसके बाद हुई मौतों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के निपाह ड्रग्स ट्रायल ग्रुप को फिर से शुरू किया है, जिसका नेतृत्व डॉ. सौम्या स्वामीनाथन कर रही हैं.

(इनपुट- आईएएनएस)

(Subscribe to FIT on Telegram)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
Stay Up On Your Health

Subscribe To Our Daily Newsletter Now.

Join over 120,000 subscribers!
ADVERTISEMENT