ADVERTISEMENT

झुर्रियों का आना ऐसे करें कम: जानें विशेषज्ञों से

झुर्रियों को समय से पहले आने से रोकने के आसान और असरदार उपाय सुझाता है ये लेख.

Published
<div class="paragraphs"><p>Face wrinkles tips: झुर्रियों का आना देख परेशान होता युवा वर्ग&nbsp;</p></div>
i

इस भागदौड़ वाली ज़िंदगी में समय से पहले बालों का सफ़ेद होना या चेहरे पर समय से पहले झुर्रियों का नज़र आना आम बात होते जा रही है. वैसे एक समय था जब 40-45 साल की उम्र में झुर्रियों का नज़र आना शुरू होता था, पर अब हालात बदल गए हैं. अब झुर्रियों को उम्र बढ़ने का संकेत नहीं माना जाता है. बल्कि समय से पहले आती झुर्रियां हमारे अस्वस्थ जीवनशैली की ओर इशारा करती है.

चलिए, इस लेख के ज़रिए हम विशेषज्ञों से ये जानने की कोशिश करते हैं कि समय से पहले झुर्रियों का आना हम कैसे कम कर सकते हैं.

झुर्रियां क्या हैं और कैसे बनती हैं? 

<div class="paragraphs"><p>त्वचा में झुर्रियों का आना स्वाभाविक&nbsp;&nbsp;</p></div>

त्वचा में झुर्रियों का आना स्वाभाविक  

(फ़ोटो:iStock)

झुर्रियां हमारी त्वचा में दिखने वाली लकीरें होती हैं, जो उम्र बढ़ने के साथ-साथ नमी और लचीलापन खोने से बनती हैं. मतलब जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, स्किन से इलास्टिसिटी और मॉइस्चर कम होने लगता है, जिसकी वजह से हमें अपने शरीर पर जगह-जगह झुर्रियां दिखाई देनी शुरू हो जाती है.

झुर्रियों को बनने में मदद मिलती है हमारी मांसपेशियों से. जब भी हम अपने चेहरे के भाव बदलते हैं और मांसपेशियों को ऐसा करने के क्रम में हिलाते हैं, तो इससे चेहरे की मांसपेशियों में सिलवटें पड़ती हैं. ज़्यादातर मामलों में कम उम्र के लोगों की त्वचा पर पड़ी ये सिलवटों को, त्वचा में ही पाए जाने वाली नमी, कोलेजन और इलास्टिन नाम के प्रोटीन ठीक कर देते हैं. पर, एक उम्र के बाद हमारी त्वचा नमी के साथ-साथ इन दोनों प्रोटीन के भंडार को खोना शुरू कर देती है, जिसके कारण त्वचा पर पड़ी सिलवटें ठीक नहीं हो पाती हैं. साथ ही साथ हमारी त्वचा के नीचे मौजूद फ़ैट भी धीरे-धीरे कम होने लगता है, जिसकी वजह से हमारी स्किन पतली होने लगती है और साथ ही गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से ढीली हो लटकने लगती हैं.

झुर्रियां आने का कारण 

<div class="paragraphs"><p>सूर्य की किरणों से निकलता यूवी रेडिएशन हानिकारक</p></div>

सूर्य की किरणों से निकलता यूवी रेडिएशन हानिकारक

(फ़ोटो:iStock)

फ़िट हिंदी ने समय से पहले झुर्रियां आने का कारण जब डॉ कशिश कालरा, हेड ओफ़ डिपार्टमेंट एंड कन्सल्टंट डर्मेटोलॉजी, मैक्स स्मार्ट सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, साकेत से पूछा तो उनका जवाब था, "पहले ये जानें कि एजिंग 2 प्रकार की होती है,

  • क्रोनोलॉजिकल एजिंग- जिसमें बढ़ती उम्र में स्किन के अंदर मिलने वाले प्रोटीन 'कोलेजन' की कमी होने के कारण झुर्रियों का आना, त्वचा का ढीला हो लटकना और जगह-जगह पर काले निशान बनना शुरू हो जाता है. यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जो सभी के साथ होती है.

  • फ़ोटो एजिंग- यह सूर्य की किरणों से निकलने वाले यूवी रेडिएशन की वजह से होता है. जिसके कारण स्किन में पिग्मेंटेशन और सन स्पॉट्स होने लगते हैं. समय के साथ-साथ त्वचा का रंग भी गहरा होने लगता है."

समय से पहले झुर्रियां आने के कई कारण हैं, जैसे ख़राब लाइफ़्स्टायल जो क्रोनोलॉजिकल एजिंग को बढ़ाता है. ये हैं कुछ कारण झुर्रियों के:

  • जेनेटिक

  • यूवी रेडिएशन

  • स्मोकिंग

  • गंभीर बीमारी

  • मेंटल स्ट्रेस

  • स्क्रीन के सामने ज़्यादा समय रहना

  • नींद की कमी

  • शारीरिक व्यायाम कम करना

  • खाने में हाई कार्बोहाइड्रेट और मीठे का सेवन ज़्यादा करना

  • अचानक वज़न का बढ़ना या घटना

  • फ़ेस या बॉडी क्रीम में केमिकल की मात्रा का ज़्यादा होना

  • प्रदूषण

"पिछले 2 वर्षों में इंटरनेट पर देख कर लोग तरह-तरह के घरेलू नुस्ख़े और बाज़ार में उपलब्ध झुर्रियों को हटाने वाले प्रॉडक्ट्स इस्तेमाल ज़्यादा करने लगे हैं, जिसकी वजह से कई लोगों में झुर्रियों की समस्या और बढ़ गयी है. ऐसा करना ख़तरनाक हो सकता है."
डॉ कशिश कालरा, हेड ओफ़ डिपार्टमेंट एंड कन्सल्टंट डर्मेटोलॉजी, मैक्स स्मार्ट सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, साकेत

झुर्रियां होने से कैसे रोकें?

<div class="paragraphs"><p>सनस्क्रीन झुर्रियां रोकने में मददगार</p></div>

सनस्क्रीन झुर्रियां रोकने में मददगार

(फ़ोटो:iStock)

झुर्रियां आने से रोकने के बारे में फ़िट हिंदी को डॉ. सचिन धवन, सीनियर कन्सल्टंट डिपार्टमेंट ओफ़ डर्मेटोलॉजी, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम ने बताया "30 वर्ष की आयु के बाद धीरे-धीरे झुर्रियां आना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, पर उससे पहले अगर किसी व्यक्ति में झुर्रियां आने लगती है, तब उसे हम समय से पहले झुर्रियां आना कहते हैं. ऐसी स्तिथि में अपने डर्मटॉलॉजिस्ट से मिलें. कुछ तरीक़े हैं, जिनसे हम समय से पहले झुर्रियों को आने से रोक सकते हैं."

डॉ. सचिन धवन ने बताए ये उपाय:

  • सनस्क्रीन का प्रयोग ज़रूर करें, हो सके तो हर 4 घंटे पर

  • धूप में धूप चश्मा (सन ग्लास) पहनें

  • कम से कम स्क्रीन टाइम रखने का प्रयास करें

  • त्वचा को मॉइस्चराइजड (नमी) रखें

  • हयाल्यूरोनिक एसिड (त्वचा के हाइड्रेशन) युक्त क्रीम लगाएँ

  • नारियल या बादाम का तेल लगाएँ (तैलीय त्वचा के लिए नहीं है)

  • रेटिनॉलयुक्त सिरम या क्रीम ( डर्मटॉलॉजिस्ट की सलाह पर)

  • पौष्टिक आहार लें

  • व्यायाम करें

  • पर्याप्त नींद लें

  • स्मोकिंग छोड़ें

"झुर्रियां आने का एक बड़ा कारण अचानक वज़न में कमी या बढ़ोतरी भी होती है. अगर कोई 5 किलो से ज़्यादा वज़न घटाने या बढ़ने की सोच रहे हैं तो, डायटिशन और डर्मटॉलॉजिस्ट की देखरेख में ऐसा करें. बिना सही गाइडन्स ऐसा करने से स्किन में झुर्रियां और ढीलापन आ सकता है."
डॉ. सचिन धवन, सीनियर कन्सल्टंट डिपार्टमेंट ओफ़ डर्मेटोलॉजी, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम

झुर्रियों का इलाज 

<div class="paragraphs"><p>बोटॉक्स का इंजेक्शन बेहद प्रसिद्ध इलाज</p></div>

बोटॉक्स का इंजेक्शन बेहद प्रसिद्ध इलाज

(फ़ोटो:iStock)

झुर्रियां होने पर इलाज के लिए डर्मटॉलॉजिस्ट से संपर्क करें. हर व्यक्ति की त्वचा अलग होती है इसलिए उससे जुड़ा इलाज का तरीक़ा भी सब के लिए अलग होता है. डर्मटॉलॉजिस्ट को दिखाए बिना किसी भी दवा का इस्तेमाल करना त्वचा को फ़ायदा पहुँचाने की जगह बड़ा नुक़सान भी पहुँचा सकता है.

नीचे दिए गए उपचार त्वचा के लिए कुछ लोकप्रिय उपचारों में से हैं. इन्हें डर्मटॉलॉजिस्ट की सलाह पर ही करें:

  • झुर्रियों के लिए दवा- रेटिनोल युक्त क्रीम जिनमें विटामिन ए होता है

  • फ़ोटो फ़ेशल- झुर्रियों को कम करने के लिए होती है, जो डर्मटॉलॉजिस्ट करते हैं

  • केमिकल पील- डर्मटॉलॉजिस्ट द्वारा केमिकल का घोल बना कर मृत त्वचा को हटाया जाता है, जिसके बाद नयी और कोमल त्वचा सामने आती है

  • बोटॉक्स- झुर्रियों के लिए बोटॉक्स का इंजेक्शन बेहद प्रसिद्ध इलाज है

  • फ़ेसलिफ़्ट- यह एक सर्जरी है, जिसे जवान दिखने के लिए कराया जाता है

(Subscribe to FIT on Telegram)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
Stay Up On Your Health

Subscribe To Our Daily Newsletter Now.

Join over 120,000 subscribers!
ADVERTISEMENT