ADVERTISEMENT

ओमिक्रॉन वेरिएंट के मरीज़ों की बढ़ती संख्या और उससे जुड़ी बातें

ओमिक्रॉन वेरिएंट कोविड19 के नए वेरिएंट के रूप में दुनिया के सामने आया और तेज़ी से फैलने लग गया है.

Published
ओमिक्रॉन वेरिएंट के मरीज़ों की बढ़ती संख्या और उससे जुड़ी बातें
i

 ओमिक्रॉन वेरिएंट के मरीज़ों की संख्या 38 पहुँची

देश में रविवार को कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के पांच नए मामले सामने आए और इसके बाद इसके मरीजों की संख्या बढ़ कर 38 हो गई. इस वेरिएंट के रविवार को केरल, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, नागपुर और चंडीगढ़ में मामले दर्ज किए गए. ओमिक्रॉन वेरिएंट के महाराष्ट्र में 18, राजस्थान में 9, कर्नाटक में 3, गुजरात में 3, केरल में 1, आंध्र प्रदेश में 1, दिल्ली में 2 और चंडीगढ़ में 1 मामले का पता अब तक चला है.

इस नए वेरिएंट के लक्षणों और संकेतों के बारे में बहुत सी अटकलें लगाई जा रही हैं. इस नए वेरिएंट में कई नए तरह के म्यूटेशन मिलने की भी बात कही जा रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना के इस रूप को वेरिएंट ऑफ कंसर्न के रूप में बताया है. कोरोना का यह नया वेरिएंट अब तक दुनिया के 63 देशों में पाया जा चुका है और यह डेल्टा वेरिएंट से भी ज़्यादा तेजी से फैलता है. हालांकि, डब्लूएचओ ने यह भी कहा कि फिलहाल यह वेरिएंट डेल्टा से कम घातक है.

ADVERTISEMENT
बहुत ज्यादा थकान, सुस्ती, आलस
बहुत ज्यादा थकान, सुस्ती, आलस
(फोटो: iStock)

ओमिक्रॉन वेरिएंट के लक्षण

हेल्थ एक्सपर्ट्स की माने, तो फ़िलहाल ओमिक्रोन से संक्रमित व्यक्ति में हल्के से मध्यम लक्षण ही दिखाई दे रहे हैं. जिसकी वजह से इसकी पहचान करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. इसके लक्षणों में शामिल है बहुत ज्यादा थकान और कमज़ोरी की समस्या. अब तक इसके वेरिएंट में 30 से अधिक म्यूटेशन मिले हैं जिनमें हल्के से मध्यम लक्षण पाए जा रहे हैं. यह उन लोगों को आसानी से संक्रमित कर रहा है जिन्हें पहले भी कोरोना हो चुका है और जिनकी वैक्सीनेशन पूरी नहीं हुई है उन्हें भी इससे खतरा हो सकता है. अब तक पता चलने वाले कुछ लक्षण:

  • थकान: शरीर में थकान महसूस होना जिसकी वजह से आराम करने की इच्छा होना. साथ ही साथ रोज़ाना के काम में भी कठिनाई का सामना करना. हालाँकि यह लक्षण किसी दूसरी बीमारी के भी हो सकते है.

  • गले में ख़राश: कुछ मरीज़ों में गले की ख़राश की समस्या देखने को मिल रही है जो कि गले में गंभीर दर्द में भी तब्दील हो सकती है. इसके साथ ही कुछ मरीजों को सूखी खांसी भी हो जाती है. यह समस्या कई दिनों तक रह सकती है.

  • बुख़ार: कोरोना वायरस के बाक़ी वेरिएंट की तरह ओमिक्रोन से संक्रमित व्यक्ति में भी बुख़ार रहता है मगर अभी तक मिले मामलों में ज़्यादातर माइल्ड बुख़ार ही पाया गया है.

  • रात में पसीना आना: कुछ मरीज़ों में रात को अत्यधिक पसीना आना और शरीर में तेज़ दर्द का अनुभव करने की समस्या को देखा गया है.

<div class="paragraphs"><p>मास्क का प्रयोग ज़रूर करें&nbsp;</p></div>

मास्क का प्रयोग ज़रूर करें 

(फोटो: IANS)

ओमिक्रॉन से बचाव के लिए अपनाएं ये तरीक़े 

  • भीड़-भाड़ वाली जगहों से दूर रहें.

  • जब भी बाहर निकलें मास्क लगाकर ही निकलें.

  • संक्रमण के लक्षण दिखने पर कोरोना टेस्ट जरूर करवाएं.

  • डॉक्टर से संपर्क कर, उनकी दी गयी सलाह पर अमल करें.

  • अगर आप में संक्रमण का पता चल गया है, तो खुद को दूसरों से अलग कर लें.

  • ज़्यादा से ज़्यादा आराम करें.

कोरोना वायरस पूरी दुनिया के लोगों में दहशत का माहौल बनाए हुए है. ऐसे समय में हम सभी को डर कर नहीं बल्कि हिम्मत और सूझबूझ के साथ इसका सामना करना है. हमें अपने और अपने आसपास के लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा.

(Subscribe to FIT on Telegram)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
Stay Up On Your Health

Subscribe To Our Daily Newsletter Now.

Join over 120,000 subscribers!
ADVERTISEMENT
×
×