मेनोपॉज: पीरियड्स बंद हो जाने पर क्या होता है?
मेनोपॉज से पहले ही कौन से लक्षण नजर आने लगते हैं?
मेनोपॉज से पहले ही कौन से लक्षण नजर आने लगते हैं?(फोटो: iStockphoto)

मेनोपॉज: पीरियड्स बंद हो जाने पर क्या होता है?

हार्मोन्स.

हार्मोन्स का होना या न होना, इनकी बहुतायत या कमी, हमारे शरीर की फिजिकल (और अक्सर मनोवैज्ञानिक) क्षमताओं को एक महत्वपूर्ण सीमा तक तय करती है. महिलाओं में, यह खुद को दो व्यापक फेज में परिभाषित करते हैं: उनके मेंस्ट्रुअल के साल और मेंस्ट्रुअल के बाद के साल.

जब एक महिला को पूरे एक साल तक पीरियड नहीं होते हैं तो वह मानती है कि वह अपने मेनोपॉज या रजोनिवृत्ति की स्थिति में पहुंच गई है. यह उसके अंडाशय या ओवरीज द्वारा प्रोड्यूस किए जाने वाले रिप्रोडक्टिव हार्मोन्स में एक नेचुरल रूप से कमी के कारण होता है, जैसे कि एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन. यह महिला की फर्टिलिटी खत्म होने का संकेत है.
Loading...

मेनोपॉज होने की उम्र 46 से शुरू होकर 50 से ज्यादा साल की उम्र तक हो सकती है. मेनोपॉज के लिए भारतीय महिलाओं की औसत आयु 46 साल के आसपास है, लेकिन यूरोपीय देशों में महिलाओं को यह बहुत बाद (51 वर्ष) में होता है.

भले ही यह एक नेचुरल बायोलॉजिकल प्रोसेस है, लेकिन हार्मोन में यह कमी महिला के शरीर में और बेशक उसके मन में बड़े बदलाव ला सकती है.

इन हार्मोन्स की कमी उसे कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकती है.

ऐसे में इसको लेकर पूरी जानकारी बहुत आवश्यक हो जाती है.

पेरीमेनोपॉजः पहली दस्तक

फोर्टिस में प्रसूति एवं स्त्री रोग विभाग की निदेशक डॉ नूपुर गुप्ता कहती हैं, ''मेनोपॉज एकाएक या अचानक नहीं होता है." मेनोपॉज आने की तुलना में यह बदलाव बहुत पहले शुरू होता है. इसके लक्षण दो से पांच साल पहले दिखाई देने लग जाते हैं. यह ड्यूरेशन हर महिला के आधार पर अलग-अलग हो सकती है.

  • अनियमित पीरियड्स
  • रात को पसीना
  • नींद संबंधी परेशानियां
  • सुस्ती और पूरे शरीर में दर्द होना
  • अचानक गर्मी लगना शुरू होना
  • मूड स्विंग और चिड़चिड़ापन
  • बार-बार पेशाब आना, पेशाब न रुकना और ब्लैडर में इन्फेक्शन
  • इंटरकोर्स के दौरान वजाइना का ड्राइ होना, वजाइना में खुजली और इससे दर्द होना
  • सेक्स की इच्छा कम होना
  • वजन कम करने में मुश्किल

अच्छी खासी संख्या ऐसी महिलाओं की है जिनमें ये लक्षण, और इनकी वजह से मेनोपॉज 40 साल की उम्र से पहले भी होते हैं. इसे प्रीमैच्योर मेनोपॉज कहते हैं. ऐसा कई कारणों से होता है जैसे ओवेरियन सर्जरी, जेनेटिक डिसऑर्डर, इन्फेक्शन, फैमिली हिस्ट्री या कई बार इसका कारण पता भी नहीं चलता है. इन महिलाओं में, मेनोपॉज से जुड़े रिस्क भी जल्दी नजर आने लगते हैं.

सावधानी: रोग, गर्भनिरोधक और कई चीजें

क्या पेरीमेनोपॉज में महिलाओं को गर्भनिरोधक की आवश्यकता होती है?
क्या पेरीमेनोपॉज में महिलाओं को गर्भनिरोधक की आवश्यकता होती है?
फोटो: iStockphoto)

जसलोक हॉस्पिटल में कंसल्टेंट और को-ऑर्डिनेटर प्रसूति एवं स्त्री रोग डॉ सुदेशना रे इन सभी लक्षणों को केवल मेनोपॉज तक ही सीमित नहीं करने के बारे में बात करती हैं. कई महिलाएं छाती पर दबाव या अपने शरीर के कुछ हिस्सों में अस्पष्ट दर्द का अनुभव करती हैं.

स्टडीज से पता चला है कि मेनोपॉज के बाद कई महिलाओं में दिल की बीमारियां, स्ट्रोक और ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा कैसे बढ़ जाता है. इसे मेनोपॉज तक सीमित करने से पहले किसी भी तरह के कार्डियोवस्कुलर या दूसरी स्वास्थ्य दिक्कतों का पता लगाना महत्वपूर्ण हो जाता है.

प्रोड्यूस होने वाले हार्मोंस के कैरेक्टर में हो रहे बदलाव के कारण महिलाओं में कुछ बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. ताकतवर हार्मोन की जगह कम प्रभाव वाले हार्मोन्स ने ले लेते हैं. इस प्रकार, यह हड्डियों, ब्रेन या हार्ट को उतने एक्टिव होकर प्रोटेक्ट नहीं कर पाते हैं जैसा कि मेंस्ट्रुअल सालों के दौरान करते थे.
डॉ सुदेशना रे

एक जरूरी बात ये भी है कि पेरीमेनोपॉज की स्टेज में भी बर्थ कंट्रोल की जरूरत होती है. डॉ सुदेशना कहती हैं, "गर्भनिरोध जरूरी है क्योंकि इस दौरान ओव्यूलेशन यानी अंडों का रिलीज होना पूरी तरह से रुका नहीं होता है. ओव्यूलेशन की संभावना रहती है. इसलिए 40 से ज्यादा उम्र की किसी भी महिला को अपने आखिरी पीरियड के बाद भी कम से कम एक साल तक गर्भनिरोध का इस्तेमाल करना चाहिए."

क्या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी एक अच्छा विकल्प है?

मेनोपॉज से जुड़े लक्षणों को कुछ महिलाओं में मैनेज किया जा सकता है, वहीं कुछ महिलाओं में इसके लक्षण बहुत गंभीर होते हैं. इन बदलावों को सही तरीके से हैंडल करने के लिए लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने की जरूरत होती है.

डॉ गुप्ता कहती हैं कि हमें हर चीज के लिए मेनोपॉज को दोष नहीं देना चाहिए. बाद के साल में दिखाई देने वाले बहुत से लक्षण की वजह एक सुस्त और अनहेल्दी लाइफस्टाइल हो सकती है.

मेनोपॉज के लक्षणों के संबंध में, रेगुलर एक्सरसाइज, विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट, मल्टीविटामिन, सोया व कैल्शियम की खुराक बढ़ाने और शराब, चाय व कॉफी से परहेज करने से मदद मिल सकती है.
डॉ नूपुर गुप्ता

हालांकि, बहुत सारे मामलों में, इसके लक्षण असहनीय हो सकते हैं, जो महिलाओं के दिन-प्रतिदिन के जीवन को प्रभावित करते हैं. इन मामलों में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (HRT), या मेनोपॉजल हार्मोनल थेरेपी (MHT) ऐसे मेडिकल उपाय हैं, जिनकी मदद ली जाती है.

क्या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी एक सुरक्षित विकल्प है?
क्या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी एक सुरक्षित विकल्प है?
(फोटो: iStockphoto)

सरल शब्दों में, "हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी महिलाओं में मेनोपॉजल ट्रांजिशन के दौरान खत्म हो जाने वाले हार्मोन का सप्लीमेंट है." इस तरह, यह इन हार्मोनों की कमी से जुड़े लक्षणों से राहत प्रदान करने में मदद कर सकता है.

डॉ गुप्ता बताती हैं कि यह थेरेपी अधिकतर महिलाओं के लिए फर्स्ट ट्रीटमेंट नहीं है.

जब लक्षण गंभीर होते हैं, तो हम इन्हें नियंत्रित करते हैं. लेकिन यह केवल शॉर्ट पीरियड के लिए होता है. आमतौर पर, लक्षण कुछ महीनों में बेहतर हो जाते हैं. हालांकि, मेडिकल देखरेख जरूरी है.
डॉ नूपुर गुप्ता

हालांकि HRT या MHT उन महिलाओं के लिए सबसे प्रभावी इलाज रहा है, जिनमें गंभीर बेचैनी और अन्य संकेत दिखाई देते हैं. लेकिन वूमन हेल्थ इनिशिएटिव (WHI) की स्टडी में एचआरटी या एमएचटी से जुड़े खतरे सामने आए. स्टडी में सामने आया कि इस थेरेपी के बाद महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का रिस्क बढ़ गया. इसके बाद, दुनिया भर में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी कराने वाली महिलाओं की संख्या में काफी कमी देखी गई.

हालांकि, मेडिकल कम्यूनिटी ने यह सुनिश्चित किया है कि अगर बेहतर तरीके से मैनेज किया जाए और जब यह पूरी तरह से आवश्यक हो, तो हार्मोन थेरेपी के फायदे, इसके रिस्क पर भारी पड़ते हैं.

डॉ सुदेशना रे ने जोर देकर कहा कि डब्ल्यूएचआई के निष्कर्ष विवादास्पद हो सकते हैं और स्टडी जरूरी नहीं कि आदर्श हो. रिसर्चर्स अभी तक उचित और अधिक उम्र से जुड़े बड़े पैमाने पर रिस्क एनालिसिस नहीं कर सके हैं, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि यह इलाज कितना सुरक्षित या असुरक्षित है.

हम बीमारियों से बचाव या हेल्थ प्रॉब्लम में थेरेपी नहीं देते हैं, लेकिन केवल मेनोपॉज के गंभीर लक्षणों की स्थिति में ये थेरेपी देते हैं. हम ध्यान देते हैं: मेडिकल सुपरविजन में रेगुलर फॉलोअप के साथ शॉर्ट ड्यूरेशन के लिए बहुत थोड़ा डोज.
डॉ सुदेशना रे

यहां अन्य विकल्प भी हैं, जैसे कि फाइटोएस्ट्रोजेन और सेलेक्टिव एस्ट्रोजन रिसेप्टर मॉड्यूलेटर (SERM) जो अधिक सुरक्षित हो सकते हैं. लेकिन एचआरटी अभी भी उन महिलाओं के लिए सबसे कारगर विकल्प है, जो इसके लक्षणों से निपटने में असमर्थ हैं.

उदाहरण के लिए, समय से पहले या प्रीमैच्योर मेनोपॉज के मामलों में, हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी, हार्मोन की कमी से जुड़े रिस्क को रोकने के लिए सबसे अच्छे तरीकों में से एक है.

फिट के पहले के एक आर्टिकल में, सेंटर फॉर असिस्टेड रिप्रोडक्शन एंड वीमेन हेल्थ में गायनेकवर्ल्ड (Gynaecworld) के डायरेक्टर, डॉ दुरू शाह ने लिखा, “उन महिलाओं के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी महत्वपूर्ण है, जो समय से पहले मेनोपॉज की स्थिति में पहुंच गई हैं. नेचुरल रूप से मेनोपॉज की स्थिति में पहुंचने वाली महिलाओं के लिए यह ऑप्शनल है. याद रखना चाहिए कि प्रीमैच्योर मेनोपॉज के मामलों में हार्मोन थेरेपी के लाभ निश्चित रूप से रिस्क को कम करते हैं."

आखिर में, जब किसी रोगी को वास्तव में इसकी आवश्यकता होती है तो आप सुरक्षित रूप से एचआरटी दे सकते हैं. सबसे महत्वपूर्ण है कि महिलाओं के लिए एक जानकारी वाला विकल्प हो.
डॉ सुदेशना रे

लेकिन बात जब अल्टरनेटिव ट्रीटमेंट की होती है तो डॉ नूपुर एक विकल्प के रूप में कॉग्निटिव (संज्ञानात्मक) बिहेवियरल थेरेपी के बारे में भी बताती हैं.

Also Read : मेंस्ट्रुअल हेल्थ: कैसे काम करती है आयुर्वेदिक गाइनेकोलॉजी?

(Make sure you don't miss fresh news updates from us. Click here to stay updated)

Follow our फिट हिंदी section for more stories.

Loading...