फैक्ट चेक: क्या आइसक्रीम की बजाए फ्रोजन डेजर्ट खा रहे हैं आप?
जानिए आइसक्रीम और फ्रोजन डेजर्ट में क्या अंतर है
जानिए आइसक्रीम और फ्रोजन डेजर्ट में क्या अंतर है(फोटो: iStock)

फैक्ट चेक: क्या आइसक्रीम की बजाए फ्रोजन डेजर्ट खा रहे हैं आप?

दावा

पिछले कुछ सालों से गर्मियों की शुरुआत के साथ वॉट्सएप पर एक मैसेज शेयर और फॉरवर्ड किया जाता है कि क्वालिटी वॉल्स के आइसक्रीम असल में आइसक्रीम नहीं हैं.

इस मैसेज के साथ इकोनॉमिक टाइम्स का एक पुराना आर्टिकल लिंक होता है और ये दावा किया जाता है कि अमूल ने क्वालिटी वॉल्स और आइसक्रीम बनाने वाली दूसरी कंपनियों के खिलाफ दायर एक मुकदमा जीता है और अब दूसरी कंपनियां अपने उत्पाद आइसक्रीम के तौर पर नहीं बेच सकती हैं.

इस मैसेज में आगे कहा जाता है कि फ्रोजन डेजर्ट के लेबल में हाइड्रोजेनेटेड ऑयल यानी डालडा का जिक्र होता है. इसलिए अगर कोई चीज फ्रोजन डेजर्ट है, तो निश्चित तौर पर डालडा है.

मैसेज के मुताबिक सिर्फ अमूल ही है जो दूध से आइसक्रीम बनाती है न कि वेजिटेबल फैट से.

क्या ये दावे सही हैं? ये जानने के लिए फिट ने भारत में क्वालिटी वॉल्स के निर्माता हिंदुस्तान यूनिलीवर (HUL) से संपर्क किया.

Loading...

क्या क्वालिटी वॉल्स के खिलाफ अमूल ने कोई मुकदमा जीता?

2 अगस्त, 2012 के इकोनॉमिक टाइम्स के आर्टिकल में बताया गया:

अमूल की शिकायत पर भारत के विज्ञापन रेगुलेटर (एडवरटाइजिंग स्टैंडर्ड्स काउंसिल ऑफ इंडिया- ASCI) ने उपभोक्ता वस्तुओं के प्रमुख हिंदुस्तान यूनिलीवर से कहा है कि कुछ विज्ञापनों में अपने क्वालिटी वॉल्स ब्रांड का 'आइसक्रीम' के रूप में उल्लेख करना बंद करे.

क्वॉलिटी वॉल्स फ्रोजन डेजर्ट है, जो दिखने और स्वाद में आइसक्रीम जैसा लगता है, लेकिन इसे वेजीटेबल फैट से बनाया जाता है न कि मिल्क फैट से. इसलिए, भारतीय कानून के तहत इसे आइसक्रीम नहीं कहा जा सकता है.

इस सिलसिले में हिंदुस्तान यूनिलीवर की ओर से कहा गया है:

ASCI की ओर से HUL को अपने विज्ञापनों से उन शब्दों को हटाने का निर्देश दिया गया था, जिनमें फ्रोजन डेजर्ट को आइसक्रीम के तौर पर प्रचारित किया जा रहा हो. ASCI इंडस्ट्री की सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी है, इसलिए इसके निर्देश को भारत की किसी आदलत का फैसला नहीं माना जा सकता है.

HUL ने आगे स्पष्ट किया कि 'आइस-क्रीम' शब्द का इस्तेमाल एक खास 'विज्ञापनिका' में किया गया था, जो विज्ञापन से अलग होता है. विज्ञापनिका के तहत सिंगर शान ने एक इंटरव्यू के दौरान किसी सवाल के जवाब में एक संदर्भ के तौर पर क्वालिटी वॉल्स के एक प्रोडक्ट को "स्ट्रॉबेरी चीज़केक आइसक्रीम" बोल दिया था.

HUL की ओर से ASCI को ये स्पष्ट किया गया कि ये गायक की टिप्पणी थी और उनके पैक स्पष्ट रूप से उत्पाद को फ्रोजन डेजर्ट बताते हैं और इसलिए HUL की ओर से किसी भी उपभोक्ता को गुमराह करने का कोई इरादा नहीं था. किसी भी भ्रम को दूर करने के लिए विज्ञापनिका में बदलाव कर लिया गया था."

क्वालिटी वॉल्स की 'आइसक्रीम' असल में 'फ्रोजन डेजर्ट' है?

इस मैसेज में कहा गया है कि क्वालिटी वॉल्स अपने उत्पाद आइसक्रीम के तौर पर नहीं बल्कि फ्रोजन डेजर्ट के तौर पर बेच सकता है.

22 मई 2019 को जारी किए गए इस रिलीज में फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) के नियमों के तहत आइसक्रीम और फ्रोजन डेजर्ट की परिभाषा ये है:

फ्रोजन डेजर्ट खाने योग्य वेजिटेबल ऑयल या फैट या वेजिटेबल प्रोटीन प्रोडक्ट या दोनों से तैयार पास्चुरीकृत मिश्रण को फ्रीज करके प्राप्त किया जाता है. इसमें स्वीटनर और दूसरे नॉन-डेयरी चीजों के साथ मिल्क फैट या दूसरे मिल्क सॉलिड भी हो सकते हैं.

वहीं आइसक्रीम दूध या दूध से निकाली गई दूसरी चीजों या दोनों के पास्चुरीकृत मिश्रण को फ्रीज करके प्राप्त किया जाता है. इसमें न्यूट्रिटिव स्वीटनर और दूसरी नॉन-डेयरी चीजें हो भी सकती हैं और नहीं भी.

आइसक्रीम में फ्रीजिंग प्रोसेस के लिए मिल्क फैट का इस्तेमाल होता है और फ्रोजन डेजर्ट में वेजिटेबल फैट का.

हिंदुस्तान यूनिलीवर की ओर फिट को किए गए ईमेल में स्पष्ट किया गया कि वो लोग अपने फ्रोजन डेजर्ट में हमेशा से वेजिटेबल फैट का इस्तेमाल करते आए हैं और FSSAI के निर्देशों के तहत उनके उत्पाद फ्रोजन डेर्जट के तौर पर बेचे जाते हैं.

HUL के मुताबिक:

वॉट्सएप मैसेज में तथ्यों को न केवल गलत तरीके से बताया जा रहा है बल्कि ऐसा जताया जा रहा है कि जैसे क्वालिटी वॉल्स के फ्रोजन डेजर्ट को आइसक्रीम के तौर पर बेचा रहा हो. सच्चाई ये है कि क्वालिटी वॉल्स लेबल और पैकेजिंग के रेगुलेशन का सख्ती से पालन करता है.

क्या फ्रोजन डेजर्ट में डालडा होता है?

जहां तक फ्रोजन डेजर्ट में डालडा होने की बात कही गई है, तो आपको बता दें कि डालडा एक ब्रैंड का नाम है, जो वनस्पति तेल बेचता है.

FSSAI के अनुसार वनस्पति का मतलब कोई भी रिफाइंड एडिबल वेजिटेबल ऑयल से है, जो हाइड्रोजेनेशन की प्रक्रिया से गुजरा हो.

HUL ने स्पष्ट किया:

वनस्पति (हाइड्रोजनेटेड वेजिटेबल ऑयल) और वेजिटेबल ऑयल एक नहीं हैं. दोनों ही निर्माण, कंपोजिशन और उत्पादों के गुण के मामलों में अलग है. क्वालिटी वॉल्स के फ्रोजन डेजर्ट में वेजिटेबल ऑयल का इस्तेमाल होता है न कि हाइड्रोजेनेटेड वेजिटेबल ऑयल या वनस्पति का.

चूंकि अमूल वेजिटेबल फैट की बजाए मिल्क फैट का इस्तेमाल करता है, इसलिए FSSAI नियमों के तहत इसके उत्पाद को आइसक्रीम कहा जा सकता है.

हालांकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, आइसक्रीम की परिभाषा अलग-अलग नियमों के अनुसार भिन्न होती है.

वनस्पति से दिक्कत क्या है?

कई स्टडीज में वनस्पति यानी हाइड्रोजेनेटेड तेलों में पाए जाने वाले ट्रांसफैट की ज्यादा मात्रा का संबंध दिल की बीमारियों से पाया गया है. 2009 में सेंटर फॉर साइंस एंड एन्वायरमेंट की स्टडी में दिखाया गया था कि वनस्पति के 7 बड़े ब्रैंड में ट्रांस फैट की मात्रा तय मानक से 5 से 12 गुना अधिक थी.

2018 में FSSAI की ओर से फैसला लिया गया कि वनस्पति/बेकरी के उत्पादों में ट्रांस-फैटी एसिड की मात्रा 2% से कम किया जाए.

इस बीच, निर्माताओं ने फ्रोजन डेजर्ट नाम पर आपत्ति जताई है और इस पर समीक्षा के लिए FSSAI को याचिका भेजी है. वहीं FSSAI ने इस विषय की समीक्षा के लिए एक विशेषज्ञ समूह का गठन करने का निर्णय लिया है. फिलहाल फ्रीजिंग प्रक्रिया में वनस्पति वसा का इस्तेमाल करने वाले सभी उत्पादों के लिए 'फ्रोजन डेजर्ट' शब्द का ही इस्तेमाल हो रहा है.

Also Read : क्या आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक से भी फैल सकता है नोवेल कोरोनावायरस?

(Make sure you don't miss fresh news updates from us. Click here to stay updated)

Follow our fit-food section for more stories.

    Loading...