कोरोना:दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट वैक्सीन से मिली सुरक्षा घटा सकता है?

दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट के खिलाफ न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी के लेवल पर स्टडी

Updated
दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट एंटीबॉडी लेवल में कमी ला सकता है: Pfizer
i

एक लैब स्टडी से पता चला है कि कोरोना वायरस का दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट Pfizer Inc/BioNTech SE की कोरोना वैक्सीन से मिलने वाली एंटीबॉडी प्रोटेक्शन में दो-तिहाई की कमी ला सकता है.

कंपनी ने बताया कि स्टडी के मुताबिक इसके बावजूद भी वैक्सीन वायरस को बेअसर करने में सक्षम थी और अभी तक लोगों में ट्रायल से इस बात के प्रमाण नहीं मिले हैं कि वैरिएंट वैक्सीन से मिली सुरक्षा को कम करता हो.

रॉयटर्स की इस रिपोर्ट के मुताबिक फिर भी कंपनी अपने mRNA वैक्सीन या बूस्टर शॉट के अपडेटेड वर्जन के बारे में रेगुलेटर से बात कर रही है.

कैसे की गई ये स्टडी?

अध्ययन के लिए, कंपनी और यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास मेडिकल ब्रांच (UTMB) के वैज्ञानिकों ने एक इंजीनियर्ड वायरस विकसित किया, जिसमें समान रूप से दक्षिण अफ्रीका में खोजे गए अत्यधिक संक्रामक कोरोना वायरस वैरिएंट के स्पाइक हिस्से में हुए म्यूटेशन (उत्परिवर्तन) थे, जिसे B.1.351 के नाम से जाना जाता है.

वायरस द्वारा मानव कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला स्पाइक, कई COVID-19 टीकों का प्राइमरी टारगेट है.

जिन लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है, उनके ब्लड सैंपल लेकर शोधकर्ताओं ने इंजीनियर्ड वायरस से साथ टेस्टिंग की और पाया कि अमेरिका में वायरस के सबसे कॉमन वर्जन की तुलना में दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट के खिलाफ न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी के लेवल में दो-तिहाई की कमी आई.

ये निष्कर्ष न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन (NEJM) में प्रकाशित हुए हैं.

क्या दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट के खिलाफ वैक्सीन प्रभावी नहीं होगी?

वायरस से बचाव के लिए एंटीबॉडी के किस स्तर की आवश्यकता है, यह निर्धारित करने के लिए अभी तक कोई स्थापित बेंचमार्क नहीं है. इसलिए यह स्पष्ट नहीं है कि एंटीबॉडी सुरक्षा में दो-तिहाई की कमी दुनिया भर में फैल रहे इस वैरिएंट के खिलाफ वैक्सीन को बेअसर करेगी या नहीं.

हालांकि, UTMB के प्रोफेसर और अध्ययन के सह-लेखक पेई-योंग शी का मानना है कि फाइजर वैक्सीन दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट के खिलाफ संभावित रूप से सुरक्षात्मक होगी.

“हमें नहीं पता कि न्यूनतम न्यूट्रलाइजिंग संख्या क्या है. हमारे पास वह कटऑफ लाइन नहीं है.”

यहां तक कि अगर इस वैरिएंट के कारण वैक्सीन का असर घटता है, तो भी वैक्सीन गंभीर बीमारी और मौत से बचाने में मददगार होनी चाहिए.

मॉडर्ना द्वारा भी इसी तरह के डेटा में दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट के खिलाफ एंटीबॉडी लेवल में छह गुनी गिरावट देखी गई. हालांकि कंपनी ने ये भी कहा कि इस वैरिएंट के खिलाफ उसकी वैक्सीन की असल एफिकेसी का निर्धारण किया जाना बाकी है.

(Subscribe to FIT on Telegram)

Published: 
Stay Up On Your Health

Subscribe To Our Daily Newsletter Now.

Join over 120,000 subscribers!