ADVERTISEMENT

Overthinking: क्या लगातार सोचते रहने के कारण आपकी रातों की नींद खराब हो रही है?

क्या आप भी जरूरत से ज्यादा सोचते हैं, जानिए Overthinking के लक्षण

Published
<div class="paragraphs"><p>Overthinking:&nbsp;ओवरथिंकिंग से बचने का उपाय</p></div>
i

चिंता, नींद न आना और रोजाना के तनाव के साथ, एक और कंडिशन है, जो मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) के नियमित बातचीत में अक्सर सामने आती है, वह है ओवरथिंकिंग (Overthinking) यानी जरूरत से ज्यादा सोचना. जबकि सोचना हमारे लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन यह कभी-कभी कुछ ज्यादा ही हो जाता है.

ऐसे में आप कैसे पता करेंगे कि कब सोच में डूबा रहना आपके लिए फायदेमंद है और कब ये बेवजह है और आपकी मेंटल हेल्थ को नुकसान पहुंचा रहा है. हम कैसे तय करते हैं कि विचारों का एक सामान्य, स्वीकार्य स्तर या तीव्रता क्या है और किस बिंदु के बाद हमें इससे छुटकारा पाने की जरूरत है?

ADVERTISEMENT

Overthinking की वजह: हम जरूरत से ज्यादा क्यों सोचते हैं?

मैक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, साकेत, नई दिल्ली में मेंटल हेल्थ एंड बिहैव्यरल साइंसेज डिपार्टमेंट के हेड और डायरेक्टर डॉ. समीर मल्होत्रा के मुताबिक ओवरथिंकिंग या तो विचारों की संख्या में वृद्धि या दिमाग में किसी विशेष विचार के निर्धारण से संबंधित होती है, जिस पर ध्यान देने की जरूरत है, अगर:

  • अनचाहे विचारों की श्रृंखला

  • एकाग्रता में परेशानी

  • काम पर ध्यान न दे पाना

  • महत्वपूर्ण भूमिकाओं/जिम्मेदारियों की उपेक्षा

  • अनिच्छा के कारण काम में टालमटोल

  • अनिर्णय

  • नींद में खलल

  • अशांत मनोदशा और व्यवहार

  • ऊर्जा के स्तर में परिवर्तन

  • आत्मविश्वास में दिक्कत

  • जीवन की समग्र गुणवत्ता में गड़बड़ी

  • भावनात्मक रूप से उदास और निराश महसूस करना

डॉक्टर कहते हैं कि कभी-कभी अप्रिय विचारों को मस्तिष्क में न्यूरोकेमिकल सेरोटोनिन (serotonin) के निम्न स्तर से भी जोड़ा जा सकता है.

फोर्टिस हेल्थकेयर, नई दिल्ली के मेंटल हेल्थ एंड बिहैव्यरल साइंसेज डिपार्टमेंट की हेड कामना छिब्बर समझाती हैं:

"विचार आना सामान्य है. ओवरथिंकिंग में अत्यधिक सोचना शामिल है, बिना उस विचार प्रक्रिया को नियंत्रित किए जो किसी व्यक्ति के मूड को प्रभावित करना शुरू कर देती है, जिससे वह अत्यधिक चिंतित, चिड़चिड़ा या उदास हो जाता है.”

अब जब हम जानते हैं कि ओवरथिंकिंग क्या है, तो इस अंतहीन मानसिक बोझ से छुटकारा कैसे पाया जा सकता है.

ADVERTISEMENT

जरूरत से ज्यादा सोचना कैसे रोकें?

ऐसा कौन है, जिसने कोई रात बिना नींद के किसी समस्या या तनाव से जूझते हुए न गुजारी हो. यह असल में एक समस्या है और जितना हम समझते हैं, उससे कहीं ज्यादा आम है. हालांकि, अच्छी बात ये है कि इसे थोड़े प्रयास और ध्यान से समझा और हल किया जा सकता है.

"उन संदर्भों के बारे में जागरूक होना महत्वपूर्ण है, जिनमें ओवरथिंकिंग होती है. अगर यह विशिष्ट परिस्थितियों या रिश्तों से संबंधित है, तो उनके माध्यम से काम करने के लिए समस्या-समाधान दृष्टिकोण अपनाना और संभावित समाधानों की पहचान करना सहायक हो सकता है. अगर यह छोटी-छोटी चीजों के संबंध में सामान्य रूप से हो रहा है, जो ट्रिगर बन जाती है, तो सचेत रूप से अपने आप को उन विचारों से दूर रखना या उन्हें नियंत्रित करना और दूसरी चीजों पर फोकस करते हुए अपने परिवेश में दिलचस्पी मददगार हो सकती है.”
कामना छिब्बर

इस तरह अपने स्वयं के व्यक्तिगत मार्करों, ट्रिगर्स और विशिष्ट स्थितियों या ऐसे लोगों की पहचान करना महत्वपूर्ण है, जो कुछ निश्चित विचार पैटर्न को शुरू कर सकते हैं. एक बार जब आप उनकी पहचान कर लेंगे, तो आप उनसे निपटने के लिए बेहतर ढंग से तैयार होंगे.

"जितना अधिक हम किसी विचार को दबाने की कोशिश करते हैं, उतना ही वह सामने आता है. ऐसे में, डिस्ट्रैक्शन तकनीकों का उपयोग मदद कर सकता है. किसी रचनात्मक कार्य या शौक में व्यस्त रहने से ऐसे अनावश्यक विचारों की गुंजाइश कम रह जाएगी. ऐसी चीजों की लिस्ट बनाने की कोशिश करें और एक गतिविधि कार्यक्रम का पालन करें."
डॉ. समीर मल्होत्रा
ADVERTISEMENT

ओवरथिंकिंग पर काबू पाने के लिए सपोर्ट सिस्टम, प्रोफेशनल हेल्प और सेल्फ-हेल्प टूल्स

दोनों विशेषज्ञ आपके आस-पास के लोगों के महत्व और कभी-कभी पेशेवर मदद पर भी जोर देने के साथ-साथ ओवरथिंकिंग को संबोधित करने के लिए टूल्स बताते हैं.

कामना छिब्बर कहती हैं, "ऐसी स्थितियों में मदद पाने का प्रयास करना महत्वपूर्ण है, खासतौर पर अगर यह बार-बार होता है, मित्रों और परिवार से जुड़कर और उनके हस्तक्षेप के माध्यम से समस्या को जानने और उसके बारे सही फैसला लेने में मदद मिल सकती है. हालांकि, अगर ये बने रहते हैं और कामकाज को भी बाधित करते हैं, तो इसके विशेषज्ञ से जुड़ना मददगार होगा."

इसके अलावा, डॉ. मल्होत्रा कुछ ऐसे बदलावों के बारे में बताते हैं, जो ओवरथिंकिंग से निपटने के लिए जीवनशैली और विचारों में बदलाव के लिए किए जा सकते हैं:

  • स्वयं सहायता तकनीक

  • डिस्ट्रैक्शन तकनीक

  • एक स्वस्थ जीवन शैली, रचनात्मक शौक और नियमित व्यायाम

  • एक क्रिया-उन्मुख दृष्टिकोण

  • प्रभावी समय प्रबंधन

(रोशीना ज़ेहरा एक लेखिका और मीडिया पेशेवर हैं. आप यहां उनके काम के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.)

(Subscribe to FIT on Telegram)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
Stay Up On Your Health

Subscribe To Our Daily Newsletter Now.

Join over 120,000 subscribers!
ADVERTISEMENT